hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

माँ, तुम नहीं हो
रविकांत


जब तुम थीं
कुछ विशेष नहीं लगता था
हाँ तुम्हारे जाने की बात
तब भी
बुरी लगती थी

आज तुम नहीं हो -
जैसे
मुख्य राग
नहीं बज रहा

कोलाहल
है

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रविकांत की रचनाएँ