hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मापदंड
रविकांत


मुझसे कहा गया -
'तुम्हारे पैर छोटे हैं'
जबकि
दौड़ लेता था मैं तेज

'तुम कमजोर हो'
क्योंकि
'तुमसे मजबूत लोगों की
कमी नहीं है दुनिया में '

'तुम्हारे चेहरे पर मुस्कराहट नहीं रहती
तुम बूढ़े लगते हो '

यद्यपि
उन्हें ही सुखी रखने के लिए
परेशान रहा आया हूँ मैं

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रविकांत की रचनाएँ