hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हत्या
रविकांत


आप आप आप
आप सब
जिन्हें मैं समझता हूँ कुछ
सिर्फ इतना बताएँ कृपाकर
मैं
ऐसा क्या करूँ
कि अपने को आत्महत्यारों की हत्या में
शरीक न समझूँ

कम से कम
आप सब को तो
बिल्कुल
ही नहीं

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रविकांत की रचनाएँ