hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

ड्राइवर टू
रविकांत


मेरे मोबाइल में विजय का नाम नहीं है
न ही रामवीर का

हालाँकि तीन साल से साथ हूँ उनके
सुबह से रात तक करता हूँ उनसे बातें
लेता हूँ काम उनसे किसिम-किसिम के

तंबाकू खाने गए विजय को बुलाने के लिए
मोबाइल पर लिखता हूँ - ड्राइवर वन

सुबह-सुबह
मोबाइल पर लिख कर आता है
- 'ड्राइवर टू'
तो कहता हूँ खुशी से ऐंठ कर
- हाँ, बोलो रामवीर

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रविकांत की रचनाएँ