hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कुछ भी नहीं करीने से
कुमार अनुपम


सुकवि की कविता की
हरी-भरी मनहर काई से
गिरता हूँ फिसल कर
वापस उसी जगह पर
अपने अनगढ़पन पर इतराती हुई
है जहाँ प्रकृति
एक आँकी-बाँकी नदी है
जहाँ कुछ भी नहीं करीने से
न पेड़  न पहाड़  न लाग  न लोग

यह दुनिया
सुकवि की चिकनी मेज
की तरह समतल नहीं...।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में कुमार अनुपम की रचनाएँ