hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

प्रेम
कुमार अनुपम


पृथ्वी के ध्रुवों पर

हमारी तलाश

एक दूसरे की प्रतीक्षा में है

अपने अपने हिस्से का नेह सँजोए

 

नदी-सी बेसाख्ता भागती तुम्हारी कामना

आएगी मेरे समुद्री धैर्य के पास

एक-न-एक दिन

 

हमारी उम्मीदें

सृष्टि की तरह फूले-फलेंगी।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में कुमार अनुपम की रचनाएँ