hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

इंतजार
बसंत त्रिपाठी


चौराहे पर खड़ा रिक्शा
इंतजार करता रह गया

सिटी बस सर्विस ने
यही तोहफा दिया है उसे

धीमे-धीमे
अपनी ही मौत का इंतजार

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में बसंत त्रिपाठी की रचनाएँ