hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

इसी जनम में
संजय कुंदन


वह जो मन की चहचहाहट पर गुनगुनाता था
मन की लहरों में डूबता-उतराता था
पकता रहता था मन की आँच में
वह जो चला गया एक दिन
मन के घोड़े की रास थामे
साँवले बादलों में न जाने कहाँ
वह मैं ही था

विश्वास नहीं होता
यह इसी जनम की बात है।

 


End Text   End Text    End Text