hindisamay head


अ+ अ-

कविता

मँह-मँह बेल
नामवर सिंह


मँह-मँह बेल कचेलियाँ, माधव मास
सुरभि-सुरभि से सुलग रही हर साँस
लुनित सिवान, सँझाती, कुसुम उजास
ससि-पांडुर क्षिति में घुलता आकास

फैलाए कर ज्यों वह तरु निष्पात
फैलाए बाँहें ज्यों सरिता वात
फैल रहा यह मन जैसे अज्ञात
फैल रहे प्रिय, दिशि-दिशि लघु-लघु हाथ!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नामवर सिंह की रचनाएँ