hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक पागल का प्रलाप
फ़रीद ख़ाँ


कंबल ओढ़ कर वह और भी पगला गया,
कहने लगा मेरा ईश्वर लँगड़ा है... काना है, लूला है, गूँगा है।
'निराकार' बड़ा निराकार होता है, नीरस, बेरंग, बेस्वाद होता है।
कट्टर और निरंकुश होता है।

वह कहता है, हर आदमी का अपना खुदा होता है।
जैसे उसका अपना जूता होता है, कपड़ा होता है।
घर में या फुटपाथ पर उसकी जगह होती है। उसी तरह उसका अपना खुदा होता है।

जितनी तरह के आदमी,
जितनी तरह के पेड़, पौधे, पहाड़, और जानवर, उतनी तरह के ईश्वर तो होने ही चाहिए।
इतना तो अपना हक बनता है।
जो ईश्वर को दुरदुराते रहते हैं, उनका भी ईश्वर होता है,
नंगे पाँव, नंगे बदन, गरियाते, गपियाते।

पागल को सभी ढेला मारते हैं।
ईश्वर कभी लँगड़ा होता है क्या ?
काना होता है क्या ?
लूला होता है क्या ?
गूँगा होता है क्या ?

वह अचरज में इतना ही पूछ पाता है
कि हम लँगड़े, काने, लूले, गूँगे हो सकते हैं तो ईश्वर के लिए मुश्किल है क्या ?

 


End Text   End Text    End Text