hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कला-2
भवानीप्रसाद मिश्र


कोई अलौकिक ही
कला हो किसी के पास
तो अलग बात है

नहीं तो साधारणतया
कलाकार को तो
लौकिक का ही सहारा है

लौकिक के सहारे
लोकोपयोगी रचना ही
करनी है

और ऐसा करते-करते
जितनी अलौकिकता आ जाए
उतनी अपने भीतर भरनी है

कई लोग
लोगों को किसी
खाई की तरफ ले जाएँ

ऐसी कुछ चीजें
अलौकिक कला कहकर
रचते हैं

मगर इस तरह
न लोक बचता है
न वे बचते हैं

सब कुछ विकृत
होता है
उनकी कृतियों से

ख़ुद भी मरते-मरते
भयभीत होते हैं वे
अपनी रचना की स्मृतियों से !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ