hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

जाम पियें
उद्भ्रांत


एक-एक जाम पियें
कोलाहल का, आओ!

स्वाद बहुत तीखा है
किंतु इसे पीकर हम
मस्ती में डूब जायँगे
बैठी है जो मन की हलचल सागर-तीरे
वह भीतर खींच लायँगे

एक-एक जाम पियें
इस हलचल का, आओ!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उद्भ्रांत की रचनाएँ