hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बात बोलेगी
शमशेर बहादुर सिंह


बात बोलेगी,
            हम नहीं।
भेद खोलेगी
            बात ही।

सत्‍य का मुख
           झूठ की आँखें
           क्‍या - - देखें !

सत्‍य का रुख
          समय का रुख है :
अभय जनता को
          सत्‍य ही सुख है,
          सत्‍य ही सुख।

दैन्‍य दानव; काल
भीषण; क्रूर
स्थिति; कंगाल
बुद्धि; घर मजूर।

सत्‍य का
        क्‍या रंग? - -
पूछो
        एक संग।

एक - जनता का
        दुःख : एक।
हवा में उड़ती पताकाएँ
        अनेक।
               दैन्‍य दानव क्रूर स्थिति।
               कंगाल बुद्धि : मजूर घर-भर।
               एक जनता का - अमर वर :
               एक ता का स्‍वर।
               अन्‍यथा स्‍वातंत्र्य-इति।

(1945)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद