hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सूरज उगाया जाता
शमशेर बहादुर सिंह


       सूरज
       उगाया जाता
       फूलों में :

यदि हम
एक साथ
       हँस पड़ते।

       चाँद
       आँगन बनता :

आँखों में रासभूमि यदि -
        सौर मंडल की मिलती।

        सार हम होते
        काव्‍य के
अनुपम भूत-भविष्‍य के :
        यदि हम
        वर्तमान
        में
एक साथ
        हँसते रोते गाते

 

एक साथ ! एक साथ ! एक साथ !

(1949)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद