hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

गजल
शमशेर बहादुर सिंह


वही उम्र का एक पल कोई लाए
तडृपती हुई-सी गजल कोई लाए

हकीकत को लाए तखैयुल से बाहर
मेरी मुश्किलों का जो हल कोई लाए

कहीं सर्द खूँ में तड़पती है बिजली
जमाने का रद्दो-बदल कोई लाए

उसी कम-निगाही को फिर सौंपता हूँ
मेरी जान का क्‍या बदल कोई लाए

दुबारा हमें होश आए न आए
इशारों का मौका-महल कोई लाए

नजर तेरी दस्‍तूरे-फिरदौस लायी
मेरी जिंदगी में अमल कोई लाए

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद