hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

शाम और रात : तीन स्टैं जा
शमशेर बहादुर सिंह


तकिये पे
       सुर्ख गुलाब मैंने

                   समझे... 
                          दो
सेब मैंने समझे दो... 
                          क्‍यों ? 
वो तो... वो तो 
                          दो दिल थे।

X X

संग
                  - शाम का रंग लपेटे
तुम थे

X X

- तकिये पे सिर्फ मेरा सिर था :
आँखों में
रात जल रही थी।

(1951)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद