hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हार-हार समझा मैं
शमशेर बहादुर सिंह


हार-हार
समझा मैं तुमको
अपने पार।

हँसी बन
      खिली साँझ -
बुझने को ही।

एक हाय-हाय की रात
बीती न थी,
कि दिन हुआ।

हार-हार ...

(1941)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद