hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

गीत
शमशेर बहादुर सिंह


          धरो शिर
          हृदय पर
वक्ष - वह्नि से, -- तुम्‍हें
          मैं सुहाग दूँ -
          चिर सुहाग दूँ!
प्रेम - अग्नि से - तुम्‍हें
          मैं सुहाग दूँ।
विकल     मुकुल     तुम

                        प्राणमयि,
                      यौवनमयि,
चिरवसंत  -  स्‍वप्‍नमयि,
          मैं सुहाग दूँ :
विरह - आग से, - तुम्‍हें
          मैं सुहाग दूँ !

(1941)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद