hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक मुद्रा से
शमशेर बहादुर सिंह


          - सुंदर !
          उठाओ

          निज वक्ष
और - कस - उभर !
         

          क्‍यारी

          भरी गेंदा की
          स्‍वर्णारक्‍त
क्‍यारी भरी गेंदा की :
          तन पर
खिली सारी -
                  अति सुंदर ! उठाओ...।


स्‍वप्‍न-जड़ित-मुद्रामयि
           शिथिल करुण!
हरो मोह-ताप, समुद
स्‍मर-उर वर :
            हरो मोह-ताप -
और और कस उभर !
            सुंदर ! उठाओ...!
अंकित कर विकाल हृदय-पंकज के अंकुर पर
              चरण-चिह्न,
अंकित कर अंतर आरक्‍त स्‍नेह से नव, कर पुष्‍ट, बढ़ूँ
                           सत्‍वर, चिरयौवन वर, सुदंर ! -


उठाओ निज वक्ष : और और कस, उभर !

(1941)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद