hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

एक मौन
शमशेर बहादुर सिंह


पपड़ीले पत्‍थर की पीठ पर
साँप केंचुली उतारता रहा :
लहर जहाँ काँस में, सिवार में

पेट उचकाती-सी
अंडों के छिलके उतारती-सी
हिलती ही रही लगातार -
नशे का खुमार लिये हुए वहाँ हवा में
चिनक-चिनककर मीठा दर्द-सा
होता ही रहा। और
एक मौन, संध्या के सपनों में
सोता ही रहा वहाँ
कवि-सा।

(1943)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद