hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

शिला का खू न पीती थी
शमशेर बहादुर सिंह


शिला का खू न पीती थी
                              वह जड़
             जो कि पत्‍थर थी स्‍वयं।


सीढ़ियाँ थीं बादलों की झूलतीं
                           टहनियों-सी।


और वह पक्‍का चबूतरा,
      ढाल में चिकना :
                सुतल था
            आत्‍मा के कल्‍पतरु का ?

(1942)

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद