hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

फाल्गु्न शुक्ला सप्तमी की शाम, 55
शमशेर बहादुर सिंह


(गंगा पर, फाफामऊ के पास)

                                      रेती पार
स्निग्‍ध अचल धारा में धीरे-धीरे
                       डूब रहा था...
                                      सूर्य

 

        पीछे छूट रही थीं
                      गाती हुई टिटिहरियाँ
               और सघन करती-सी
रुकी हवा का धुँधला नीला मौन।

 

दूर से निकट आता धीरे-धीरे
भारी छायाओं की महराबों का
गंगा का लंबा पुल
                     सहसा
               ऊपर व्‍योम में सहज
                     डूबा हुआ खड़ा था!

 

मौन हमारी नाव मानो
स्‍वयं दीया-बाती का समय
या कि
जन्‍म दिवस हो जैसे मन के कवि का
दूर लिये जाती हो जिसको संध्या
अपने प्रिय रजनी के पूनम द्वीप।

 

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में शमशेर बहादुर सिंह की रचनाएँ



अनुवाद