hindisamay head


अ+ अ-

कविता

पालतू समय
रति सक्सेना


आज मैं, आराम से उठी
चाय के कप को अनदेखा कर
सीधे सीधे लिथूनिया के अनजाने
कवि को पढ़ने लगी
उसकी कविताओं का मुँह बरनी सा खुल गया
मेरे शब्द उसमें भरने लगे,

आज मैंने सिंक में पड़े बर्तनों की परवाह नहीं की
धुले कपड़ों को सहेजा नहीं
टीवी को खोल कर
चैनल बदल बदल कर
ढेर सी आवाजों को कमरे में भरने दिया

अक्षर मेरी उँगलियों के पोरों पर टिक गए
जिस वक्त मेरे कंप्यूटर पर एक नई
कविता जन्म ले रही थी
समय मेरे आसपास
पालतू कुत्ते सा मँडरा रहा था।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रति सक्सेना की रचनाएँ



अनुवाद