hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पोस्टकार्ड
उद्भ्रांत


मोबाइल
और इंटरनेट के इस युग में भी
अपनी धीमी रफ्तार के बावजूद

एक आम आदमी की तरह
अभी बचा है उसका अस्तित्व
और जब तक रहेगा
आम आदमी
और उसका दुख
मौजूदा लोकतंत्र की बहसों के बीच
वह रहेगा इसी तरह
महत्वपूर्ण।
अपने बजट भाषणों में
प्रतिवर्ष वित्तमंत्री उसका करेंगे
खास जिक्र,
उसकी मूल्य-वृद्धि करते हुए
सरकारें काँपेंगी
और अगर कभी
पाँच-सात सालों में
ऐसी नौबत आने को हुई
तो मचेगा हड़कंप
विरोधी दलों को
मिलेगा एक मुद्दा!
मगर उसे
इस्तेमाल करनेवाला
एक साधारण जन
लुटा-पिटा करेगा महसूस
नगरों,
महानगरों में काम करनेवाले
करोड़ों जनों का
अपनी जड़ों की सुधि लेना
और भी होगा कठिन
पिछले पचपन बरसों में
पोस्टकार्ड की कीमत
पाँच से पचास पैसे तक
जब-जब बढ़ी है,
तब-तब
अनगिनत बूढ़ी आँखों में तैरतीं
जवान कामगर उम्मीदें
कुछ और दूरी पर
खिसक गई हैं -
जैसे आजाद भारत में
खिसकती जाती है आजादी
हर वर्ष
इंच-दर-इंच
इंटरनेट की दुनिया में
पोस्टकार्ड की उपस्थिति
एक गरीब और शोषित
पीड़ित और उपेक्षित
निरंतर हाशिए पर धकेले जानेवाले
आम आदमी के द्वारा
अस्तित्व की रक्षा के लिए
किया जानेवाला
शंखनाद है!

अनिवार्य तत्व जल
क्षीर की श्रेणी में अवतरित
बिसूरती अतीत को
दुख और शर्म से
सिकुड़ती
शिखंडी सभ्यता से
क्षिप्र शरों से लहूलुहान
भीष्म-जननी
क्या प्रतीक्षारत है
सूर्य के उत्तरायण में
आने की बाट जोहते?
क्या बिगुल बज रहा
मनुष्यता के अंत का?

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उद्भ्रांत की रचनाएँ