hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बकरामंडी
उद्भ्रांत


जामा-मस्जिद की बकरामंडी में
हजारों बकरे सजे-धजे
गले में चमकीली झालरें पहने
सुंदर सींगों वाले
कइयों के बँधी थी कलँगी
स्वस्थ, हट्टे-कट्टे
सफेद, काले, चितकबरे
अपने-अपने मालिकों के साथ
क्या उन्हें मालिक कहना ठीक होगा?
क्योंकि वहाँ तो
बोलियाँ लग रही थीं -
यह बकरा तीन हजार का
वह काला हृष्ट-पुष्ट दस का
और इधर जो
चितकबरा बकरा देखते हैं आप
इसकी कीमत पचीस हजार सिर्फ
अरे, आप घबरा गए?
यह तो है मंडी
हमारे पास गरीबों के लिए भी हैं
और शहंशाहों के लिए भी
जिसकी हो जैसी भी हैसियत
खरीद सकता है उसी के माफिक
एक हजार से लेकर
एक लाख तक!
कितने सुंदर और भोले
देख रहे थे वे
एक-दूसरे को
अपने तथाकथित मालिकों को भी कभी-कभी
और फिर उन्हें भी
जो लालायित थे खरीदने को।
बेचनेवाला
अपने-अपने बकरे की
नस्ल और उसके स्वास्थ्य को
माल के विशिष्ट गुण की तरह करता पेश
उसकी अधिक से अधिक कीमत बताता
और सोचता-मन-ही-मन आशंकित होता
क्या अपने बकरे की कीमत
उसको इतनी मिल पाएगी
कि वह इसी मंडी से
कम कीमत वाला एक बकरा
अपने बीवी-बच्चों के वास्ते
खरीद सकेगा और
यों कुर्बानी दे सकेगा
अपने हिस्से की?
खरीदारी करने जो आया था मंडी में
वह ऐसा सोचता
जो बकरा खरीद रहा हूँ
उसका गोश्त होगा इतना लजीज क्या
कि मेरे सभी मित्रों-संबंधियों को
अगले साल तक
यह कुर्बानी रहेगी याद?
क्या सोच रहे थे मगर बकरे?
एक हजार से
एक लाख तक की कीमत वाले बकरे वे
आपस में अपनी मूक भाषा में
करते संवाद थे
बोलती हुई आँखों के द्वारा
भोलापन लिए हुए
अपनी ही दुनिया में थे मगन
जैसे उनका पिता
मेले में उन्हें घुमाने के लिए
नहला-धुला
नए-नए कपड़े पहनाकर
ले आया हो ताकि
मेले की सैर
सिद्ध हो उनके जीवन का यादगार अनुभव
ये बच्चे खुश थे
क्योंकि उन्हें मेला ले जाने से पूर्व
अच्छी घास और सुस्वादु चारा खिलाकर
उनकी क्षुधा की परितृप्ति की गई थी
और वे हैरत से
चारों ओर देखते
गर्दनें घुमा-घुमा
अपने ही जैसे
और दूसरी नस्लों के भी
हजारों बकरों को
वे खुश थे और जानते थे कि
आज का दिन
उनकी जिंदगी का
सबसे स्मरणीय दिन होगा
उनके लिए ही नहीं
उन्हें बेचनेवाले पुराने और
खरीदनेवाले
नए मालिक के लिए भी!
उन्हें पता था कि आज के दिन
वे इतना महान कार्य कर जाएँगे
कि उनके पूर्ववर्ती मालिक के घर में
खुशी के पल -
दिनों और महीनों में बदलेंगे;
और नया मालिक भी अपनी संतृप्ति में
अपने सगे-संबंधियों,
मित्रों और अतिथियों तक को
गर्व से बनाएगा साझीदार।
ये सभी बकरे
जब आज प्रातः सोकर उठे तब
क्या उन्हें मालूम था
कि यह उनके जीवन का
यादगार दिन है?
या इसका पता
उन्हें इस मंडी में आने पर लगा?
या कसाई के हाथों से
हलाल होते?
या बहुतेरे भरपेटों के लिए
तृप्ति का साधन बनने के बाद?
इन बकरों की आँखें
इनका भोला चेहरा
इनकी सुंदर आकृति
इनकी निश्छलता
इनकी पवित्रता
कुर्बानी का इनका जज्बा
ये सब पीछा कर रहे हैं
मेरा, तुम्हारा, हम सबका
वे पूछ रहे हैं
कि क्या उनकी जिंदगी का यह दिन
इसी तरह होना था महत्वपूर्ण?
कोई और तरीका न था
कि वे अपने जीवन को
बना सकते सार्थक
और पूर्व-निर्धारित
संक्षिप्त अपनी आयु को
पूर्ण कर लेते कुछ
कर गुजरने के वास्ते?
कुर्बानी किसने दी -
बकरे के मालिक ने?
भूख से व्याकुल हो -
अपनी संतान जैसे बकरे को
बेच दिया जिसने?
या जिसने महँगे दामों
खरीदा उसको
और बाकायदा कुर्बानी दी?
बकरे ने क्या दिया?
बकरे को क्या मिला!
फकत उसने अपनी
मामूली-सी जान दी
किंतु जान देकर भी
कुर्बानी दे नहीं सका वह
अपने अल्लाह को
भाँति-भाँति के
अपने रूपों से जिसने
उसे दिया शुक्रिया!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उद्भ्रांत की रचनाएँ