hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

वे सब कहाँ गई
जसबीर चावला


वह तोड़ती पत्थर
इलाहाबाद के पथ पर
कहाँ है वह
निराला की
कालजयी रचना की
'रचना'
उसे मिलते हैं कम
पत्थर
तोड़ता है अब क्रशर
हर गाँव / शहर
*
अब बबूल की दातुन नहीं बेचती
ख्वाजा अहमद अब्बास की नायिका
हम गर्व से कहते हैं
दातुन नहीं बच्चे भी पेस्ट करते हैं
{पूछता बच्चा दातुन किसे कहते हैं}
*
रेणु / कृश्न चंदर की नायिकाएँ
बाँसचटाई / सूपड़ा / टोकरी / झाड़ू / डलियाएँ
नहीं बनाती / बेचती
प्लास्टिक ने उन्हें बाहर कर दिया
वन से बाँस नहीं मिलते
हम भी नहीं खरीदते
{बच्चे नहीं जानते}
*
कभी कदा दिख जाती है
गारोड़िया लुहारन / बंजारन
लोहा कूटती
धोंकनी धौंकती
चूल्हा फूँकती
सड़क किनारे
बिना पते की गाड़ी / घर
के साथ
न जाने किस
महाराणा की आन बान
की रक्षा में
बिता रही
सतत निर्वासन
नहीं जानती
उसके औजार
अब
टाटा बनाता है
यही किसान को भाता है
*
कहाँ है / किस हाल है
पत्तल / दोने वाली
धुनकी से तुन्न तुन्न कर
रूई पींजने वाली
रशीदा पिंजारन
*
कहाँ गईं
कहाँ सबके घरवाले
लगाकर ताले
प्रेमचंद का होरी
हीरामन / शैलेंद्र की
'चलत मुसाफिर मोह लिया रे
पिंजरे वाली मुनिया'
गोदान की धनिया
*
लील गया सबको
विकास का बनिया

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में जसबीर चावला की रचनाएँ