hindisamay head


अ+ अ-

कविता

क्योंकि
रेखा चमोली


क्योंकि मैं प्रेम करती हूँ तुमसे
इसलिए मैं प्रेम करती हूँ
महकते फूलों से, काँटों से
बहती नदी से, अविचल पर्वतों से
उमड़ते-घुमड़ते, गरजते-बरसते बादलों से
बच्चों से, बड़ों से
किताबों से, गीतों-कहानियों से
लहलहाती फसलों से
खिलखिलाहटों से, बेचैनियों से
अभावों से, संभावनाओं से
दर्द से, राहतों से
और बताना चाहती हूँ सबको
कि तुमसे प्रेम करना
बाकी दुनिया के साथ साजिश करना नहीं है।
क्योंकि मैं प्रेम करती हूँ तुमसे
इसलिए मैं प्रेम करती हूँ खुद से।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रेखा चमोली की रचनाएँ