hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कभी फुर्सत मिली तो
रेखा चमोली


जाओ जी जाओ
कहीं और सजाना
अपने शहद भरे शब्दों की दुकान
तुम्हारी मिठास पर भारी हैं
रोजमर्रा की खीझ व कड़ुवाहटें
लो जी, अब कहने लगे
जिंदगी जीने की कला सीखो
परेशानियों से लड़ना सीखो
अरे लड़ते-लड़ते ही तो बच पाई हूँ इतनी
कि अब भी तुम्हारी नजर
टूटती जर्जर दीवारों पर उगी
घास की मुट्ठी भर हरियाली पर जा टिकी है

बड़े प्यार-व्यार की बातें करते हो
आओ जरा धुलवा दो मेरे साथ कपड़े-बर्तन
घर भर का झाड़ू-पोंछा करने में मदद कर दो
हाथ-पैर धुलवाकर तेल ही लगा दो
मेरे बच्चों के हाथ-पैरों पर
चलो छोड़ो एक कप चाय ही बना कर पिला दो

क्या कहा?
ये सब जरूर कर लेते लेकिन...
जाओ जी जाओ

ये प्यार-व्यार सब फुर्सत की बातें हैं
कभी फुर्सत मिली तो
जरूर सुनूँगी तुमसे
मेरे गाल पर तिल का क्या मतलब है?

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रेखा चमोली की रचनाएँ