hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कविता मुझमें
रेखा चमोली


कविता
उन उदास दिनों में भी
उत्साहित करती है
जब गिर चुके होते हैं
पेड़ से सारे पत्ते
नंगा खड़ा पेड़
नीचे धूप तापती धरती
रंगीन बाजार महँगी वस्तुओं
अनावश्यक खरीददारी के बीच
ठकठकाती है
संवेदनाओं को
पलटकर दिखाती है
सड़क किनारे खेलते
नंग धड़ंग बच्चे
और भीख माँगती माँएँ

बोझिल आँखें टूटते शरीर के
बावजूद कविता
जगाती है देर रात तक
भुलाती है दिन भर की
उथलपुथल
फिर
छोटी सी झपकी भी
कई घंटों की निष्फिक्र नींद के
बराबर होती है
पुराने तवे सी हो चुकी मैं
जल्दी गर्म हो
नियंत्रण खो उठती हूँ
भावनाओं एवं स्थितियों पर
तो कभी पाले सी
देर तक हो जाती हूँ उदासीन
ऐसे में कविता तुम
मन के किसी कोने में
धीरे-धीरे सुलगती रहती हो
बचाए रखती हो
रिश्तों की गर्माहट व मिठास
मुझे करती हो तैयार
उनका साथ देने को
जो अपनी लड़ाई में
अलग-थलग से खड़े हैं।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रेखा चमोली की रचनाएँ