hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बेवजह
रेखा चमोली


मारी जाती हैं
छिपकलियाँ
जब-जब आ जाती हैं नजर
घरों की दीवारों पर
घूमने लगती हैं निडर
उजाले में भी
पर तब तक कोई नहीं
छोड़ता उन्हें
जब तक रहती हैं वे
छिपी
कोनों-सिल्लियों के नीचे
आलमारियों के पीछे
करती हैं कम घर के कीड़े-मकोड़े
खा जाती हैं
मक्खियाँ, मच्छर, काकरोच।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में रेखा चमोली की रचनाएँ