hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मंगल-वर्षा
भवानीप्रसाद मिश्र


पीके फूटे आज प्यार के, पानी बरसा री।
हरियाली छा गई, हमारे सावन सरसा री।

                     बादल छाए आसमान में, धरती फूली री,
                     भरी सुहागिन, आज माँग में भूली-भूली री,
                     बिजली चमकी भाग सरीखी, दादुर बोले री,
                     अंध प्रान-सी बही, उड़े पंछी अनमोले री,

छिन-छिन उठी हिलोर मगन-मन पागल दरसा री।
पी के फूटे आज प्यार, के पानी बरसा री।

                    फिसली-सी पगडंडी, खिसकी आँख लजीली री,
                    इंद्रधनुष रंग-रँगी आज मैं सहज रँगीली री,
                    रुन-झुन बिछिया आज, हिला डुल मेरी बेनी री,
                    ऊँचे-ऊँचे पेंग, हिंडोला सरग-नसेनी री,

और सखी, सुन मोर ! विजन वन दीखे घर-सा री।
पी के फूटे आज प्यार के, पानी बरसा री।

                    फुर-फुर उड़ी फुहार अलक दल मोती छाए री,
                    खड़ी खेत के बीच किसानिन कजली गाए री,
                    झर-झर झरना झरे, आज मन-प्रान सिहाए री,
                    कौन जनम के पुन्न कि ऐसे शुभ दिन आए री,

रात सुहागिन गात मुदित मन साजन परसा री।
पी के फूटे आज प्यार के, पानी बरसा री।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ