hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पूर्णमदः
भवानीप्रसाद मिश्र


हर बदल रहा आकार
मेरी अंजुलि में
आना चाहिए

विराट हुआ करे कोई
उसे मेरी इच्छा में
समाना चाहिए !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ