hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

स्वप्न-शेष
भवानीप्रसाद मिश्र


सपनों का क्या करो
कहाँ तक मरो
इनके पीछे

कहाँ-कहाँ तक
खिंचो
इनके खींचे

कई बार लगता है
लो
यह आ गया हाथ में

आँख खोलता हूँ
तो बदल जाता है दिन
रात में !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ