डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कुत्ते
संजय चतुर्वेदी


लंबे और कठिन रास्‍तों पर
जब हम अकेले रह जाते हैं
कुत्‍ते कविताओं की तरह हमारा साथ देते हैं
बढ़ती सभ्‍यता में बढ़ती रही
हमारी नफरत, उनकी मुहब्‍बत
वे हमसे प्‍यार करते हैं
हमारे बावजूद

उनका नहीं हमसे कोई खून का रिश्‍ता
भौतिक पदार्थों का भी कोई खास नहीं
तमाम बीमारियों और जूठनखोर स्थितियों में भी
हमारी ऐश में भी, हमारी तैश में भी
हमारी निष्‍काम क्रूरताओं में भी
भयंकर निराशा के क्षणों में भी
वे बनाए रखते हैं उस तार को
जब तक हताशा खा नहीं जाती उनके होश को

बंगलों की जंजीरों में कितने हैं ?
खेतों के, अलावों के मधुर संबंध भी बीत चुके हैं
उन्‍होंने हमारे लिए जंगल छोड़ दिए
अब वे कहाँ जाएँ
फिसलती हुई गलित दुनिया में करोड़ों
खिंचती हुई पूँछों और कानों से कुँकुआते हुए
दो पाटों के बीच में
सड़कों पर रोटी की तरह फैले अभागे
जाते पर्यावरण में
हमें आज भी अपनाए हुए
हमें सहन करते हुए
ये वृक्षों की तरह नष्‍ट हो रहे हैं

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में संजय चतुर्वेदी की रचनाएँ