डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

उनकी सफलता का राज
संजय चतुर्वेदी


नई नस्‍ल के विजेता चाहने वालों से मिलते हैं
कड़ी मेहनत से पहुँचे वे यहाँ तक
लाखों को पीछे छोड़ते हुए
वे हैं देखने दिखाने काबिल
लोग उनसे पूछते हैं
उनकी सफलता का राज
लाचार मुस्‍कुराहट उनके चेहरों पर
कैसे बताएँ वह जो उनको नहीं पता ठीक से
वह जो घुला आज के हवा-पानी में
वह जो बोया गया पिछली शताब्दियों में
वह जो छिपा कत्‍ल की इच्‍छा के आसपास
वह जो उतरता जंगली जानवरों में
बचपन की ट्रेनिंग के साथ
उनकी प्रतिभा से तेज चमकती है उनकी लाचारी
वे नहीं बता पाएँगे अपनी सफलता का राज

कोई पूछे उनके माँ-बाप से
शायद हल्‍का-सा अंदाज हो उन्‍हें।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में संजय चतुर्वेदी की रचनाएँ