hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

रात
विश्वनाथ प्रसाद तिवारी


और रात जब ऊँचे-ऊँचे पहाड़ों को घेरने लगती है
तो आकाश में फड़फड़ाते पक्षी
दूर-दूर जंगलों में गुम होने लगते हैं
स्याह हो जाते हैं ऊँचाइयों के देवदारु
तराई के गाँव नींद में बड़बड़ाते हैं
चट्टानें ढलानों से लुढ़कती हैं
एक आहत, रौंदी हुई, बेजान शताब्दी की तरह
घाटी का जंगल चीखता है
जैसे यूरोप चीखता हो हिटलर के यातना शिविरों में।
मेरे सहयात्री, क्या तुम बता सकते हो
क्यों छेदते हैं वे ठंड में सिकुड़े हुए लोगों को?
कब तक उनके रहम की प्रतीक्षा करते रहेंगे
ये सहमे हुए पहाड़
ये डरी हुई नदियाँ
ये काँपती वनस्पतियाँ?
क्या बता सकते हो
यह अंधकार में लड़खड़ाती छाया किसकी है?
कौन है यह रक्त से लथपथ
थका-माँदा, दिशाहारा?
क्या बता सकते हो
ये हाँफते हुए लोग कहाँ भागे जा रहे हैं?
वह नीली आँखों वाली सफेद लड़की
उस काले युवक पर क्यों थूकती है?
मेरे इतिहास के साथी, शायद तुम नहीं बता सकते
जंगल से आने वाली इन मिली-जुली आवाजों के अर्थ
गो तुम जानते हो
आजकल रातें कितनी ठंडी होती हैं
ठंडी और खौफनाक -
जब मरी हुई इच्छाएँ साँप की तरह निकलती हैं
और चंदन की सुकुमार टहनियों को कसकर लपेट लेती हैं
अपनी लपलपाती जहरीली जिह्वा से
एक नंगी त्वचा को छीलने लगती हैं।
जब नदी, पहाड़, जंगल, घाटी, मैदान
शहर, कस्बा, गाँव, रेगिस्तान
सब गुम हो जाते हैं
केवल एक बदनसीब चेहरा
मोड़ पर कभी हँसता है, कभी रोता है।
जब लोग अपने-अपने दरवाजे-खिड़कियाँ बंद कर लेते हैं
अपनी-अपनी मोमबत्तियाँ बुझा लेते हैं
अपने अपने अँधेरे-बंद कमरों में
दुबककर खामोश हो जाते हैं
और जिंदगी-भर के आदर्शों - जिम्मेदारियों से दबे
पेट के बल खाँसने लगते हैं।
और वे भयानक काली रातें
अश्वमेध के घोड़ों की तरह बढ़ती जाती हैं
एक शहर से दूसरे शहर को
आक्रांत करती बस्तियों को
जिनकी मुलायम त्वचा
वल्गाहीन घोड़ों की नुकीली टापों से छिलती जा रही हैं।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की रचनाएँ