hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

मिलन
विश्वनाथ प्रसाद तिवारी


लौट आए थे हम दोनों
बरसते बादलों
और लपलपाती बिजलियों के बीच
अपनी अँधेरी रात में

मैंने उसे अपनी बाँहों में लपेट लिया था
और वह रो रही थी फूट-फूटकर

मैं अपना साहस उसमें भर रहा था
और अपने भीतर संचित कर रहा था
साहस - जो आदमी और आदमी के
मिलने से पैदा होता है

रोशनी हमसे दूर थी
अँधेरे ने हमें बहुत करीब कर दिया था

मैं महसूस कर रहा था
हम दोनों के मिलने से
जो लहरें पैदा हो रही थीं
वे क्रूरतम इतिहास को
बदलने में समर्थ थीं।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की रचनाएँ