hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हमारी घाटी
विश्वनाथ प्रसाद तिवारी


हमारी घाटी हमें वापिस कर दो
वापस कर दो हमारी घाटी
तुम नहीं समझ सकते
ओस में भीगी चट्टानों का दर्द
न उस संगीत को
जब दूधिया चाँदनी में धुल जाता है जंगल
तारों भरी रात में फूल झरते हैं
और काँपती हवाओं
हिलती वनस्पतियों के बीच
हम एक-दूसरे के लिए
भोर तक प्रतीक्षा करते हैं।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की रचनाएँ