hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

नदी
विश्वनाथ प्रसाद तिवारी


एक नदी मेरे आगे
बह रही है।

मैं देख रहा हूँ
उसका गुजरना।

मैं खुद गुजर रहा हूँ-
इस नदी के साथ।

हम दोनों
एक दूसरे से अलग
और साथ-साथ गुजर रहे हैं।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की रचनाएँ