hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

झूठ - 2
दिव्या माथुर


बेचारे के थे
न पाँव न पँख
गोद खिलाया
काँधे बिठाया
नाशुक्रा निकला
ये निगोड़ा
सर पर चढ़
मेरे ही बोला
देखो तो ज़रा
ये झूठ मेरा !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में दिव्या माथुर की रचनाएँ