hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

झूठ - 6
दिव्या माथुर


सच को
न चाहिए ओढ़नी
न बिछौना
झूठ ढ़ूँढ़ता है
काली चादर
और
छिपने को
अँधेरा कोना


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में दिव्या माथुर की रचनाएँ