hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

बँटवारा
दिव्या माथुर


कल का जब
बँटवारा होगा
आधे की
तुम माँग करोगे
भोगा था
न भोग्य बनोगे
कल संपूर्ण
तुम्हारा था
संपूर्ण क्या तुम कल
मुझको दोगे?


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में दिव्या माथुर की रचनाएँ