hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

उनका डर
गोरख पांडेय


वे डरते हैं
किस चीज से डरते हैं वे
तमाम धन-दौलत
गोला-बारूद पुलिस-फौज के बावजूद ?
वे डरते हैं
कि एक दिन
निहत्थे और गरीब लोग
उनसे डरना
बंद कर देंगे

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में गोरख पांडेय की रचनाएँ