डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

धर्म-भक्त
सुरजन परोही


धर्म-भक्त
बलि होकर
रक्षा करते हैं देश-भक्त की
देश की सेवा ही
उसका धर्म-युद्ध
अहिंसक

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सुरजन परोही की रचनाएँ