डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

स्वाभिमान
सुरजन परोही


अभिमान नहीं
स्वाभिमान रच
देश-धर्म और जाति का
देश-धर्म और जाति-बीच

छल-कपट के जीवन में
स्वाद नहीं जीवन का
रुको और रोको
छल की दुनिया में
मनुष्य होकर जाने में
डरो-और-डरो

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सुरजन परोही की रचनाएँ