hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

इंद्रधनुष का देश
अभिमन्यु अनत


नीले समुद्र का दूधिया किनारा
अमरीकी सैलानी के साथ साँवली वेश्या
मुँह बाए जापानी कैमरा
जींस की जेब में अकुला रहे
हरे-भरे डालर
आगे फैला पीला हाथ भिखारी का
खाली का खाली
चमचमाती सफेद रेत पर पसरे
गेहुँए उरोज / गुलाबी जाँघें
टहल रहे मनचलों की पिपासित आँखें
मछुओं के बच्चों की काली मुसकानें
वाटर-स्की से चिरी छाती लहरों की
उन्हें कराहते छोड़ झागों में
नारंगी क्षितिज से
भाग गया सूरज।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में अभिमन्यु अनत की रचनाएँ