hindisamay head


अ+ अ-

कविता

गीता
आस्तीक वाजपेयी


सब खत्म हो गया।
यह मैंने क्या कर दिया ?

तुमने कहा था कि यह सब तुम ही थे
फिर क्यों रोते हैं ये अनाथ ?
ये विधवाएँ, तुम तो यहीं हो।

धर्म की जीत के लिए तुमने मुझसे
कैसा अनर्थ करवा दिया ?

सुनो यह बारिश के बादलों की गर्जन नहीं है।
यह प्रकृति का रुदन है।
उसे मैंने चोटिल किया है।

ये गिद्ध जो रण को ढँके हैं,
यह उन मृत योद्धाओं के स्वप्न हैं, जिन्हें
मैंने अपूर्ण अवस्था में ध्वस्त कर दिया है।

तुमने मुझसे यह क्यों करवाया
मैं शापित हूँ, इतनी जीतों का भार
उठाकर हार गया हूँ।
यह मैंने क्या कर दिया।

देखो उन कुत्तों को, वे भी रो रहे हैं।
मैंने मनुष्यों का विषाद इतना अधिक
बढ़ा दिया कि वह जानवरों में फैल गया।

यह बारिश की बूँदें अब इस धरती को
गीला नहीं करती, इसके आँसू सूख चुके हैं।

मैं ही क्यों, मुझे ही तुमने क्यों समझाई गीता,
मुझसे ही क्यों करवाई हत्याएँ।

यशोदानंदन बोलते हैं, "क्योंकि विध्वंस जीवन का
आरम्भ है, मैं ही था तुममें जब तुमने इन योद्धाओं
को ध्वस्त किया लेकिन पहले ही जानते हो तुम गीता।"

हाय ! अब तुम मुझे सीधे जवाब भी नहीं देते
यह पाप तुमने मुझसे क्यों करवाया
इतनी हत्याएँ कि तीनों लोक इसकी
गंध से लिप्त हो गए, मैं ही क्यों ?

क्योंकि तुम ही मुझपर विश्वास कर सकते थे,
तुम ही मुझपर संदेह।

 


End Text   End Text    End Text