hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

इंतजार
ज्ञानेंद्रपति


(कलकत्ता/कर्जन पार्क/दिन के चार)

घुटने मोड़ पर बैठी हुई यह लड़की
शाम के इंतजार में है
धुँधलके के इंतजार में

दिन उतर आया है उसके घुटनों तक

घुटने मोड़ कर बैठी हुई यह लड़की
दिन के अपने पैरों तले आ जाने के इंतजार में है
अँधेरे के इंतजार में

तब अपने केशों पर फिराएगी वह हाथ
और बदल जाएगा उसका भेस
उसके सपाट चेहरे पर जल उठेंगी उसकी आँखें
आ जाएगी उनमें वह चमक जो केवल
बुरी स्त्रियों की आँखों में होती है
लालसा और घृणा से भर देने वाली चमक

आहिस्ता चलती हुई
अपने शिकार की तलाश में निकलेगी इस मैदान में

और एक बार फिर
शिकार की तलाश में घूमते
किसी लोलुप व्याघ्र का शिकार होगी
अपने विलाप को मुस्कराहट में बदलती हुई।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ज्ञानेंद्रपति की रचनाएँ