hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पाँच चिड़ियों ने
ज्ञानेंद्रपति


पाँच चिड़ियों ने
खाली आकाश को
सूने घाट पर नहाने आई सखियों-सा
अपनी क्रीड़ाओं से भर दिया

फिर आए
राहगीर पक्षियों के
मंथर झुंड
काँपते आकाश को
सुतल करते

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ज्ञानेंद्रपति की रचनाएँ