hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

किसी की : किन्हीं की
ज्ञानेंद्रपति


किसी की हुई रहती है पौ-बारह
किन्हीं की पौ फटती ही नहीं
तमिस्राएँ उनकी आकांक्षाओं के जवाब में
उतरती हैं उदयाचल से

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ज्ञानेंद्रपति की रचनाएँ